Image default

उदाकिशुनगंज : पीएचसी को अनुमंडलीय अस्पताल में शिफ्ट करने के विरोध में एसडीएम को सौंपा ज्ञापन

header ads
न्यूज़ सुनने के लिए क्लिक करे

उदाकिशुनगंज : पीएचसी को अनुमंडलीय अस्पताल में शिफ्ट करने के विरोध में एसडीएम को सौंपा ज्ञापन

विभाग के इस निर्णय से स्थानीय लोगों में आक्रोश

SDM को ज्ञापन सौंपते जनप्रतिनिधि

मधेपुरा /बिहार :- मधेपुरा जिले के उदाकिशुनगंज प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र को अनुमंडलीय रेफरल अस्पताल में शिफ्ट करने की विभागीय कवायद की सूचना मिलते ही विभाग के निर्णय का विरोध शुरू हो गया है। मामले में शनिवार को जनप्रतिनिधियों की एक शिष्टमंडल एसडीएम राजीव रंजन कुमार सिन्हा से मिलकर  ज्ञापन सौंपा है।जिसमे लोगों की सुविधाओं को ध्यान में रखते हुए पीएचसी को यथावत रखने का आग्रह किया गया है।

जानकारी के मुताबिक प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ० इंद्रभूषण कुमार सहित अन्य चिकित्सा अधिकारियों के रिपोर्ट के मुताबिक मुख्य बाजार में  स्थित प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र का भवन जर्जर हो चुका है। पुराने भवन टूटने के कगार पर है। दवा भंडारण केंद्र के भवन में छत से पानी टपकता है। जहां दवा को सुरक्षित रख पाना मुश्किल हो रहा है।कर्मचारियों के बैठने के लिए भी पर्याप्त जगह नहीं है। परिणामस्वरूप सुचारू रूप से कोई भी कार्य संपादित नहीं हो पा रहा है।प्रसव गृह में भी दो बेड है जो हमेसा भरा हुआ रहता है।जिससे अन्य मरीजों को इलाज कराने में असुविधा होती है।वस्तुस्थिति को देखते हुए सप्ताह में तीन दिन एएनएम प्रतिनियुक्त रहेगी।इमरजेंसी सुविधा उदाकिशुनगंज अनुमंडलीय रेफरल अस्पताल हरेली में उपलब्ध रहेगी।

ज्ञात हो कि  पीएचसी 70 वर्ष पुराना है। पीएचसी उदाकिशुनगंज प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र की स्थापना 1952 ई. में हुई थी। स्थापना के वक्त पीएचसी पर तीन प्रखंडो का भार था। उदाकिशुनगंज के अलावा ग्वालपाड़ा और बिहारीगंज प्रखंड के मरीज भी इसी पीएचसी पर निर्भर थे। पीएचसी स्थापना के समय ग्वालपाड़ा और बिहारीगंज प्रखंड भी नहीं बन पाया था। लाखों की आबादी पीएचसी पर निर्भर हुआ करता था। वर्तमान समय में प्रखंड मुख्यालय में पीएचसी और सीएचसी बनने से प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर से भार कम हुआ है।

क्षेत्रीय लोगों में पनप रहा है आक्रोश..

सुविधानुसार विभाग पीएचसी को शिफ्ट तो कर रही है लेकिन क्षेत्रीय लोगों के आक्रोश भी पनपने लगा है। स्थानीय लोगों के बिरोध का सामना अधिकारियों को करना पड़ सकता है। एसडीएम को सौंपे ञापन में पूर्व प्रमुख बिकासचंद्र यादव, कांग्रेस अध्यक्ष खोखा सिंह, जदयू नेता कमलेश्वरी मेहता, राजद नेता रमण कुमार यादव, युवा जदयू अध्यक्ष अजय कुमार समेत अन्य लोगों ने बताया  कि यदि पीएचसी शिफ्ट की जाती है तो पूरे उदाकिशुनगंज, लक्ष्मीपुर, रहटा-फ़नहन, गोपालपुर,बराटेनी,बीड़ी रणपाल, बाराही आनंदपुरा के लोगों को स्वास्थ्य सुविधाओं में भारी परेशानी हो जाएगी। लोगों के सुविधाओं को ध्यान में रखते हुए पीएचसी को यथावत रखने का आग्रह किया गया है।इधर स्थानीय लोगों का कहना है कि किसी भी शर्त में शिफ्ट नहीं होना चाहिए।यदि ऐसा किया जाता है तो चिकित्सा पदाधिकारी के खिलाफ आंदोलन किया जाएगा। एकजुट होकर जिलाधिकारी और अनुमंडल पदाधिकारी से मिलकर इस कार्रवाई को रोकने की मांग करेंगे।
मामले में चिकित्सा पदाधिकारी इंद्रभूषण कुमार ने बताया कि पीएचसी का भवन जर्जर हो चुका है।अन्य सुविधा भी नगण्य है।बेड की व्यवस्था नहीं है।लगातार शिफ्टिंग को लेकर बैठक किया जा रहा है।कोविड के कारण रुक गया था।जल्द ही शिफ्टिंग की कवायद शुरू की जाएगी।

header ads

Related posts

SDM समेत कई पदाधिकारियों ने ली वैक्सीन ,कहा नही है कोई साइड इफेक्ट सुरक्षित है वैक्सीन

Newspointhindi

पत्रकारों को राज्य सरकार ने माना फ्रंटलाइन वर्कर, प्राथमिकता के आधार पर टीका लगना शुरू

Newspointhindi

कोरोना के दुसरे लहर के आगे नतमस्तक हुआ देश ,लगातार बढ़ रहा संक्रमितो की संख्या

Newspointhindi

एसडीओ ने किया नगर पंचायत कार्यालय का शुभारंभ

Newspointhindi

नवादा में जहरीली शराब कांड के पीड़ित परिजनों से मिले जाप प्रमुख पप्पू यादव, बंधाया ढाढस

Laloo Prasad

कोरोना से बचाव के लिए हुआ मास्क वितरण

Newspointhindi

Leave a Comment